नियुक्ति नहीं मिलने पर वे आत्महत्या करने पर होंगे मजबूर !

नियुक्ति की मांग को लेकर अभ्यर्थी  एक सप्ताह से कर रहे  है धरना - प्रदर्शन 


भोपाल। तीन साल से नियुक्ति का इंतजार कर रहे चयनित शिक्षकों की समस्याएं खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। राजधानी के लोक शिक्षण संचालनालय के समाने ओबीसी चयनित शिक्षक और जीवविज्ञान सह विषय के अभ्यर्थी नियुक्ति की मांग को लेकर एक सप्ताह से धरना - प्रदर्शन कर रहे हैं ओबीसी चयनित शिक्षकों का कहना है कि शासन की ओर से कोई भी अधिकारी हमारी समस्याएं सुनने नहीं आ रहा है। रविवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री अरूण यादव धरना स्थल पर पहुंचकर चयनित शिक्षकों से मिलें। 

चयनित शिक्षक उनसे अपने दर्द बयां करते-करते रोने लगें। अभी तक ओबीसी चयनित शिक्षक भाजपा कार्यालय पहुंचकर अपनी मांग संबंधी ज्ञापन दिया, लेकिन कोई भी भाजपा नेता उनकी समस्याओं को सुनने नहीं आया। अब ओबीसी चयनित शिक्षकों का कहना है कि जब तक उन्हें नियुक्ति पत्र नहीं मिल जाता है, तब तक वे यहीं डटे रहेंगे। अगर नियुक्ति नहीं मिलती है तो वे यहीं पर आत्महत्या करने पर मजबूर होंगे और इसका जिम्मेदार शासन होगा। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री अरूण यादव ने कहा कि तीन साल से ये चयनित शिक्षक परीक्षा पास कर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। 

सरकारी जान - बूझकर इनकी इनकी अनदेखी कर रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से इस संबंध में बात करेंगे ओबीसी चयनित शिक्षक संघ का कहना है कि 16 मार्च को स्कूल शिक्षा विभाग ने जो आदेश जारी किया, जिसमें किसी भी विषय में ओबीसी अभ्यर्थियों की नियुक्ति नहीं जारी की गई। अत: पांच विषय में 600 अभ्यर्थी होल्ड से प्रभावित हैं और 11 विषयों में 1400 अभ्यर्थी नियुक्ति से वंचित हैं। इस तरह कुल दो हजार अभ्यर्थियों की नियुक्ति पत्र रूका हुआ है। जिसमें ज्यादातर अभ्यर्थी आर्थिक तंगी और मानसिक रूप से प्रताड़ित हो रहे हैं।