ऊर्जा मंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया निर्णय…

नामांतरण, विज्ञप्तियों के प्रकाशन हेतु अब निगम लेगा 2000 रूपए 

ग्वालियर। शहर से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर की अध्यक्षता में संभागीय आयुक्त एवं नगर निगम प्रशासक एम बी ओझा के निवास कार्यालय पर एक बैठक हुई। बैठक में जनहित के अनेक मुद्दों पर महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। शहर में गार्वेज शुल्क के युक्तियुक्तकरण के लिये एक कमेटी का गठन किया गया। इसके साथ ही नामांतरण की विज्ञप्तियों के प्रकाशन हेत 5 हजार रूपए के स्थान पर 2 हजार रूपए लेने का निर्णय भी लिया गया। 

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में नगर निगम प्रशासक एम बी ओझा, नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन, जिला अध्यक्ष भाजपा कमल माखीजानी, नगर निगम के पूर्व सभापति राकेश माहौर, चेम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष विजय गोयल, मानसेवी सचिव प्रवीण अग्रवाल, राकेश गुप्ता के साथ ही नगर निगम एमआईसी के पूर्व सदस्य सतीश बोहरे, धर्मेन्द्र राणा, केशव सिंह, दिनेश दीक्षित उपस्थित थे। जनहित के निर्णयों को लेकर आयोजित इस बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि नगर निगम के कर्मचारियों को समयमान का लाभ एक अक्टूबर से दिया जायेगा। 


इसके साथ ही नगर निगम द्वारा जारी किए जाने वाले मृत्यु प्रमाण-पत्र व्यवस्था का विकेन्द्रीकरण करते हुए जोनल अधिकारी को इसके अधिकार दिए जायेंगे। मिल्क पार्लरों को स्थान उपलब्ध कराने के लिये निगम द्वारा लिए जा रहे 50 हजार रूपए के शुल्क को घटाकर 5 हजार रूपए करने का निर्णय भी लिया गया है। ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने बैठक में यह भी कहा कि शहर की सफाई व्यवस्था के लिये ईको ग्रीन कंपनी द्वारा जो एग्रीमेंट किया गया है उसके संबंध में भी तत्परता से निर्णय शासन स्तर से हो, इसके प्रयास किए जाएं। 

शहर की साफ-सफाई को और बेहतर करने की दिशा में निगम कार्य करे। नगर निगम प्रशासक एम बी ओझा ने कहा कि ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने जो जनहित के मुद्दे उठाए हैं उन पर निगम तत्परता से कार्रवाई करेगा। उन्होंने कहा कि शहर में गार्वेज शुल्क के युक्तियुक्तकरण हेतु कमेटी बनाई जा रही है। शहर के नागरिक गार्वेज शुल्क को छोड़कर सम्पत्तिकर नियमानुसार जमा कर सकेंगे। गार्वेज शुल्क के संबंध में कमेटी की रिपोर्ट आने पर उचित निर्णय लिया जायेगा।