लिया आर्थिक पैकेज देने का फैसला…
पड़ोसी की मदद के लिए एक बार फिर आगे आया भारत

नई दिल्ली। कोरोना महामारी की वजह से मालदीव की अर्थव्यवस्था पर बने दबाव को कम करने के लिए जल्द ही वित्तीय सहयता पैकेज का एलान करेगा. 26 जुलाई को मालदीव के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मालदीव स्थित भारतीय दूतावास से मिले संदेश के आधार पर मदद पहुंचाई जाएगी. इससे पहले भारतीय राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मालदीव के राष्ट्रपति सोलिह को मालदीव को स्वतंत्रता दिवस पर शुभकामनाएं दीं. 

भारतीय दूतावास ने अपने संदेश में कहा कि दोस्ती की बुनियाद पर भारत हमेशा मालदीव के साथ है, ये दोस्ती एतिहासिक है और बेहतर भविष्य के लिए हम एक दूसरे का साथ देंगे. गौरतलब है कि मोदी सरकार की नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी के तहत मालदीव की हर मुश्किल घड़ी में भारत ने साथ दिया है. वहीं भारत-मालदीव रिश्तों को और मजबूत बनाने के प्रयास जारी हैं. भारत इसके पहले भी हिंद महासागर स्थित इस देश को मुद्रा संकट से उबारने के लिए 400 मिलियन डॉलर की सहायता दे चुका है. 

कोरोना काल में भी नई दिल्ली की ओर से ऑपरेशन संजीवनी के तहत मालदीव को करीब 6.2 टन जरूरी दवाएं और 600 टन भोजन सामग्री भेजी गई थी. मालदीव स्थित भारतीय दूतावास, रविवार को मालदीव के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर एक फोटो प्रदर्शनी आयोजित करेगा. गौरतलब है कि भारत-मालदीव के कूटनीतिक रिश्तों के 55 साल पूरे होने की वजह से आयोजन और ख़ास हो गया है जिसमें दो पड़ोसी देशों के लगातार मजबूत होते रिश्तों की झलक दिखेगी.