अल्लाह से फरियाद 


  अल्लाह अब पैगम्बर भेजो, 
             पकडो इन शैतानो को ।
  आओ मोहम्मद नींद जागो, 
           समझाओ अनजानों को ।

   नाम तुम्हारा रटते-रटते, 
               ये मानवता भूल गए ।
   इन्हे बचाने आए फ़रिश्ते, 
              उनके मुंह पे थूक गए ।

    अब कुरान की हर आयत का,
            मतलब इनने बदल दिया ।
    ऑखों पर नफ़रत का चश्मा, 
      प्यार से मिलकर कतल किया ।

     खामोशी का वक्त नहीं अब, 
                बाहर आओ मजारों से ।
     किसने बदली भाषा इनकी, 
                  पूछों इन मक्कारो से ।

    चन्द विदेशी गिरगिट इनसे, 
                 इनका घर जलवाते है ।
    ये जाहिल मक्कार फरेबी, 
                 ऐसे ही बिक जाते हैं ।

    जहाँ इबादत तेरी होती, 
               उसमें शाजिस रचते हैं ।
    मुल्क मिटाने की खातिर, 
              हर बार सफाई धरते है ।

    हिन्दुस्तानी आज मुस्लमाॅ, 
               इनसे बचकर रहता है ।
   इनकी हर करतूत छिपाकर, 
        अल्लाह-अल्लाह कहता है ।

    मौला आज दुआ कर तुमसे, 
                  नेक मुसलमाॅ रोते हैं ।
    इन गद्दारों के चक्कर में, 
                खुद बदनामी सहते हैं ।

    मौला दे फरमान जरूरी, 
                आज गवाही तेरी है ।
    बचा तेरी इस कायनात को, 
            मालिक क्या मजबूरी है ।

   

       भूपेंद्र" भोजराज" भार्गव