संभागआयुक्त ने समीक्षा के दौरान दिए निर्देश…

कचरा प्रबंधन के लिये संसाधनों का बेहतर उपयोग किया जाए : श्री सक्सेना

ग्वालियर। कचरा प्रबंधन के लिये उपलब्ध सभी संसाधनों का बेहतर उपयोग करें। डोर टू डोर कचरा कलेक्शन का कार्य सर्वोच्च प्राथमिकता से किया जाए। पूरी प्लानिंग के साथ कचरा प्रबंधन का कार्य हो। वार्ड मॉनीटर अपने-अपने वार्डों की मॉनीटरिंग प्रतिदिन करें। वार्ड मॉनीटरों को 10 – 10 हजार रूपए अग्रिम दिया जाए ताकि छोटी-छोटी समस्याओं का निराकरण तत्काल किया जा सके। 

संभागीय आयुक्त एवं नगर निगम प्रशासक आशीष सक्सेना ने गूगल मीट के माध्यम से प्रतिदिन की जाने वाली समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिए हैं। संभाग आयुक्त ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा के दौरान निगम अधिकारियों से कहा है कि उपलब्ध संसाधनों का बेहतर उपयोग कर कचरा प्रबंधन का कार्य किया जाए। जो वाहन खराब हैं उन्हें तत्काल ठीक कराने की कार्रवाई भी की जाए। 

जिन वार्डों में डोर टू डोर कचरा प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है उनमें अगर एक समय में पूरे वार्ड का कचरा संग्रहीत न हो रहा हो तो शाम को भी डोर टू डोर की गाडियों से कचरा प्रबंधन का कार्य किया जाए। श्री सक्सेना ने यह भी निर्देशित किया है कि डोर टू डोर कचरा प्रबंधन के लिये सभी वार्डों के जिम्मेदार अधिकारियों को पूरी प्लानिंग तैयार कर बताई जाए ताकि किसी को कोई परेशानी न हो। कचरा प्रबंधन के लिये लगाए गए वाहन और अमला समय पर अपने कार्य क्षेत्र पर उपलब्ध हो, यह भी सुनिश्चित किया जाए। 

नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन ने बताया कि कचरा कलेक्शन के साथ-साथ कचरे के निष्पादन हेतु लैण्डफिल साइट पर भी व्यवस्थायें तेजी से की जा रही हैं। जिन वार्डों मे डोर टू डोर कलेक्शन अभी नहीं कर पा रहे है उनमें भी शीघ्र प्रारंभ किया जायेगा। निगम के जो वाहन खराब हैं उनको ठीक करने की कार्रवाई भी की जा रही है। इसके साथ ही नए वाहन खरीदने की प्रक्रिया भी की जा रही है। नए वाहन आने से शेष वार्डों में डोर टू डोर कचरा कलेक्शन का कार्य किया जा सकेगा।