30% सिलेबस होगा कम…
CBSE के 9-12वीं के छात्रों को मिलेगी बड़ी राहत !

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर काफी प्रभाव पड़ा है. स्कूलों के बंद होने के कारण शिक्षा के समय में भी कमी आई है जिसको ध्यान में रखते हुए सीबीएसई ने शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए 9वीं – 12वीं का पाठ्यक्रम संशोधित करने का निर्णय लिया है. मूल अवधारणाओं को बनाए रखते हुए पाठयक्रम को यथांसभव 30% तक कम कर दिया गया है. यह घटाया गया पाठ्यक्रम बोर्ड परीक्षाओं और आतंरिक मुल्यांकन के लिए निर्धारित विषयों का हिस्सा नहीं होगा. 

विद्यालय प्रमुख और अध्यापक विभिन्न विषय संयोजित करने के लिए विद्यार्थियों को घटाई गई विषय-वस्तु की भी व्याख्या करना सुनिश्चित करेंगे. संबद्ध विद्यालयों में वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर और एनसीईआरटी के अन्य इनपुट भी अध्यापन शिक्षण का भाग होंगे. विद्यालय प्रारंभिक कक्षाओं I-VIII के लिए एनसीईआरटी द्वारा विनिर्दिष्ट वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर का अनुसरण करेंगे. 

इस संबंध में मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने एक ट्वीट में लिखा कि सीबीएसई पाठ्यक्रम को 30 प्रतिशत तक कम करने का फैसला लिया गया है. पोखरियाल ने आगे लिखा, 'इस फैसले के लिए मैंने कुछ हफ्ते पहले कई शिक्षाविदों से सिलेबस को कम करने पर सुझाव मांगे थे. मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि हमें 1.5 हजार से अधिक सुझाव मिले. आपकी प्रतिक्रियाओं के लिए शुक्रिया.' उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा- 'देश और दुनिया की असामान्य स्थिति को देखते हुए CBSE को कक्षा 9 वीं से 12वीं के छात्रों के लिए सिलेबस को संशोधित करने और उसे कम करने की सलाह दी गई थी.